Latest news
जालन्धर विनय मंदिर के पंडित के खिलाफ ब्लात्कार का मामला दर्ज, गिरफ्तार पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान

इयान चैपल ने की विराट कोहली की तारीफ, कहा – वह टेस्ट में भारत को नई ऊंचाईयों पर ले गए

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

Sports

मेलबर्न : ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल ने कहा है कि विराट कोहली एक कप्तान के रूप में एक असाधारण थे क्योंकि उन्होंने टीम इंडिया के कप्तान के रूप में अपने उत्साह पर कभी अंकुश नहीं लगाया। इस साल की शुरूआत में ही विराट कोहली ने द. अफ्रीका के दौरे पर टेस्ट टीम की कप्तानी से भी इस्तीफा दे दिया। तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में द. अफ्रीका के खिलाफ भारत को 2-1 से हार का सामना करना पड़ा था।

इयान चैपल ने कहा कि विराट कोहली भारत के सफल कप्तान हैं। जब कोहली ने एमएस धोनी के बाद कप्तानी पदभार संभाला तो यह एक बड़ी चिंता थी। क्या विराट का असीम उत्साह ने एक लीडर के रूप में उनके फैसले को धूमिल कर दिया? इसमें कोई संदेह नहीं है कि कोहली कप्तान के रूप में असाधाराण थे। उन्होंने उन्होंने अपने उत्साह पर अंकुश नहीं लगाया। वह अभी भी भारतीय टीम को उच्च स्तर तक ले जाने में सक्षम थे। उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे की सहायता से विराट भारत को विदेशी दौरों में सफलता तक पहुँचाया। जैसा कि भारत का कोई दूसरा कप्तान नहीं कर पाया।

चैपल ने आगे कहा कि विराट की दो व्यक्तिगत प्रमुख विदेशी सफलताएं 2018-19 में ऑस्ट्रेलिया और 2021 में इंग्लैंड थीं। घर पर उनकी टीम लगभग अपराजेय थी। कोहली ने सौरव गांगुली और धोनी की विरासत को संभाला और लगातार 7 सालों तक टीम को शीर्ष पर बनाए रखा। कप्तान के रूप में उनकी सबसे बड़ी निराशा दक्षिण अफ्रीका में हालिया सीरीज हार होगी। क्योंकि भारत पहले टेस्ट मैच को जीत चुका था। जब भारत ने श्रृंखला 1-0 से आगे बढ़ाई, हालांकि उन्होंने केप में उस श्रृंखला के मध्य टेस्ट में कप्तानी नहीं की थी।  

चैपल ने आगे कहा कि कोहली की महान उपलब्धियों में से एक भारतीय टीम का टेस्ट क्रिकेट के लिए भूख थी। अपनी  सफलता के बावजूद कोहली का प्रमुख उद्देश्य टेस्ट में जीत हासिल करना था और यहीं से उनका जुनून चमक उठा। इसमें कोई संदेह नहीं है कि कोहली ने बाजी मारी। चैपल ने कहा कि उनके खिलाड़ियों ने कड़ी मेहनत की। लेकिन यह भी स्पष्ट है कि उन्होंने प्रतिस्पर्धा का आनंद लिया और सफलता चाहते थे। कोहली के पास कई व्यक्तिगत उपलब्धियां हैं। 

जब चयन की बात आती है तो कोहली ने अपना रास्ता अपनाया और इस क्षेत्र में उनके कुछ फैसले थोड़े संदिग्ध थे लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं है कि पंत का उनका समर्थन एक मास्टरस्ट्रोक था। एक कप्तान की रैंकिंग और कप्तान के रूप में उनके टेस्ट में प्रदर्शन एक और फैक्टर है। कोहली का औसत 54 का है। हमें कोहली के इस्तीफे के फैसले की सराहना करनी चाहिए।

कोहली भारत के सबसे सफल टेस्ट कप्तान हैं। उनकी कप्तानी में भारत ने 68 मैच खेलें हैं जिनमें 40 मैचों में जीत मिली है। टेस्ट की कप्तानी के दौरान कोहली की बल्लेबाजी भी कमाल की थी। बतौर कप्तान विराट कोहली ने 7 दोहरे शतक लगाए हैं।  कोहली ने अब तक 99 टेस्ट खेल चुके हैं और वह 100वां टेस्ट बहुत वेस्टइंडीज या फिर श्रीलंका के खिलाफ खेल सकते हैं।