Latest news
जालन्धर-मंडी फैंटनगंज में बनी दो बड़ी नाजायज इमारतों के खिलाफ कारवाई न करने वाले 7 अधिकारियों के खिल... जाल्नधर - Charcoal Restaurant में खाना खाकर बच्चों समेत तीन महिलाएं मौके पर हुई बेहोश,अस्पताल में भर... जालन्धरः डीसीपी नरेश डोगरा पर दिन चढ़ते ही गिरी एक ओर गाज, पढे पूरा मामला जालन्धरः दुकानदारों के मामूली विवाद ने लिया भयानक रुप,डीसीपी नरेश डोगरा के खिलाफ ही दर्ज हुई FIR, पढ... नशे में धुत व्यक्ति ने घर में घुसकर की मारपीट और तोड़फोड़, पुलिस के साथ भी झगड़ा पंजाब में सियासत गर्माई- ओप्रेशन लोटस के विवाद पर पंजाब में भाजपा पर केस दर्ज, विजीलैंस को सौंपी जां... चार साल बाद री-सील हुआ विरासत हवेली रैस्टोंरैंट (एम्पायर हेरीटेज) के पीछे क्या है राज, पढ़े क्यो चार... Plaza Hotel में बन रही Multistorey Market के मामले में निगम प्रशासन के खिलाफ अदालत में केस दायर करेग... प्रताप बाग के नजदीक एक दुकान के नक्शे पर बनी तीन सैनिटरी की दुकानें, चौथी की तैयारी पंजाब : SHO से परेशान ASI मुंशी ने थाने में खुद को मारी गोली, मौत

मक्कड़ मोटर्स का कारनामाः पूर्व विधायक सुशील रिंकू के आधार कार्ड को टैंपर कर किया यह काम..स्टेट ट्रांस्पोर्ट विभाग लेगा एक्शन

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

जालन्धर अनिल वर्मा

जालन्धर फगवाड़ा हाईवे पर स्थित मक्कड़ मोटर्स के कारनामे को लेकर पूरा आरटीए विभाग शक के दायरे में आ गया है कि आखिर कैसे लोगों के आधार कार्ड टैंपर कर वाहनो की रजिस्ट्रेशन करवाई जा रही है। ताजा मामला जालन्धर वैस्ट के पूर्व विधायक सुशील रिंकू के आधार कार्ड को टैंपर कर आरसी बनवाने का सामने आया है जिसमें तस्वीर सुशील रिंकू की ही है मगर आधार नंबर और पता टैंपर कर बदल दिया गया है। यह सारे दस्तावेज मक्कड़ मोर्टस की ओर से आरटीए की वैबसाईट पर अपलोड किए गए थे। अपलोड किए गए आधार कार्ड अनुसार मोता सिंह नगर के रहने वाले सौरभ चड्डा के नाम से तैयार किया गया। मामला उस वक्त पक़ड़ में आ गया जब कंप्यूटर ओपरेटर की से डाटा चैक किया गया जिसमें सुशील रिंकू की तस्वीर को लेकर शंका पैदा हुई तो गहराई से जांच शुरु की गई बाद में खुलासा हुआ कि सिर्फ तस्वीर ही सुशील रिंकू की है बाकी सब कुछ बदल दिया गया है।जिसके बाद वाहन की रजिस्ट्रेशन को रोक दिया गया और मामला आरटीए के तक पहुंचाया गया।

उधर मक्क़ड़ मोटर्स के जीएम यश ने कहा कि हमारी ओर से कोई भी दस्तावेज टैंपर नहीं किया गया जो भी दस्तावेज ग्राहक देता है उसे ही वैबसाईट पर अपलोड किया जाता है। बता दें कि फर्जीवाड़े के अनेक मामलों में जालन्धर आरटीए दफ्तर कई बार चर्चा में रहा है इसका कारण है कि यहां पर तैनात कर्मचारी पिछले कई सालों से इसी विभाग में काम कर रहे है जिनके शहर में अच्छे रिश्ते बन चुके हैं इनमें कई प्राईवेट एजैंट अपने डीलरों का काम जल्दी करवाने के लिए भी कई तरह के जुगाड़ लगाते हैं। फिलहाल इस आधार को टैंपर करने के पीछे क्या कारण हो सकता है इसके लिए आरटीए रजत ओबराय ने डीलर को नोटिस जारी कर दिया है और उसका स्पष्टीकरण मांगा है जिसके बाद अगली कारवाई के लिए स्टेट ट्रांस्पोर्ट को पत्र भेजा जाएगा।