Latest news
MCD में फिर बजेगा AAP का डंगा, दिल्ली की जनता ने माना AAP कट्टर ईमानदार पार्टी- मनीष सिसोदिया Kulhad Pizza का नया विवाद शुरु, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो खूब हो रहा ट्रौल जालंधर-फगवाड़ा गेट की हांगकांग मार्किट को सील करने की तैयारी, कांग्रेसी राज में किसने वसूले थे 28 ला... अटारी बाजार बोर्ड वाला चौंक के पास फिर शुरु हुआ 35 अवैध दुकानों का निर्माण, "पुरानी फाईल गायब, सिस्ट... जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड

Improvement Trust के बाद विजीलैंस की रडार पर Town Planning के कई अफसर, ऐसे करते थे सरकार के साथ धौखा !



अनिल वर्मा




पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद पिछले पांच सालौं दौरान आंखे बंद करके बैठी  विजीलैंस विभाग की भी नींद टूट गई है। बीते दिनों जालन्धर इंप्रूवमैंट ट्रस्ट के दफ्तर में हुए करोड़ों रुपयों के घोटालों संबंधि कई फाईलें जब्त करके जांच शुरु की गई। इसके बाद विजीलैंस की टीम सोमवार को जालन्धर नगर निगम के टाउन प्लानिंग विभाग में छापेमारी कर सकती है। पिछले पांच सालौ दौरान कांग्रेसी नेताओं को खुश करने के लिए शहर में हजारों अवैध कारोबारी इमारतें बनवाई गई।

यही नहीं सैंकडो़ं अवैध इमारतों को सील करने के बाद चंद ही घंटों के बाद एक एफीडेविट के आधार पर खोल दिया गया मगर जिन शर्तों का एफिडेविट में हवाला दिया गया था उनका पालन कई साल बीतने के बाद भी नहीं किया गया और न ही संबंधित सैक्टरों के इंस्पैक्टरों ने उन इमारतों की स्टेटस रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को सौंपी। आरोप है कि कांग्रेसी नेताओं के इशारे पर ऐसी कई फाईलों को गायब कर दिया गया जिनको निगम ने शर्तों के अनुसार गिराने के लिए प्राप्टी मालिकों से एफीडेविट लिए थे। इनमें ज्यादातर वह इमारतें शामिल हैं जिनका नक्शा रिहायशी पास था मगर मौके पर कारोबारी निर्माण कर इस्तेमाल करना शुरु कर दिया गया था। 

इन नाजायज कारोबारी इमारतों की एफीडेविट के आधार खोली गई थी सीलें, नहीं हुआ शर्तों का पालन

  • जरनैल सिंह एंड सन्ज़ ( फगवाड़ा गेट)
  • किरण बुक स्टोर (माईहीरां गेट)
  • 5 दुकानें ( मिशन कंपाऊंड)
  • होटल आर-1 (सतनाम नगर)
  • दाल मिल ( लंमा पिंड)
  • 15 दुकानें ( टांडा रोड हनुमान मंदिर के समीप)
  • माईक खोसला की इमारत ( दोआबा चौंक)
  • जैरथ स्किन क्लिनक ( आबाद पुरा)
  • होटल इंद्रप्रस्थ के सामने 
  • जेपी नगर चौंक से माता के ढाबे वाली सड़क पर
  • दिलबाग पतीसा के सामने
  • ज्योति डाक्टर वाली गली फगवाड़ा गेट
  • 15 दुकानें दकोहा भगवान वाल्मिकी आश्रम के सामने
  • सेठी इंडस्ट्री की 12 दुकानें
  • अजीत टिंबर संतोखपुरा
  • चावला बिल्डिंग मटीरियल के साथ वाली इमारत (अवतार नगर रोड)
  • अग्रवाल अस्पताल की विवादित इमारत

 

इस मामले में एमटीपी मेहरबान सिंह से संपर्क नहीं हो सका।