Latest news
जालन्धर-मंडी फैंटनगंज में बनी दो बड़ी नाजायज इमारतों के खिलाफ कारवाई न करने वाले 7 अधिकारियों के खिल... जाल्नधर - Charcoal Restaurant में खाना खाकर बच्चों समेत तीन महिलाएं मौके पर हुई बेहोश,अस्पताल में भर... जालन्धरः डीसीपी नरेश डोगरा पर दिन चढ़ते ही गिरी एक ओर गाज, पढे पूरा मामला जालन्धरः दुकानदारों के मामूली विवाद ने लिया भयानक रुप,डीसीपी नरेश डोगरा के खिलाफ ही दर्ज हुई FIR, पढ... नशे में धुत व्यक्ति ने घर में घुसकर की मारपीट और तोड़फोड़, पुलिस के साथ भी झगड़ा पंजाब में सियासत गर्माई- ओप्रेशन लोटस के विवाद पर पंजाब में भाजपा पर केस दर्ज, विजीलैंस को सौंपी जां... चार साल बाद री-सील हुआ विरासत हवेली रैस्टोंरैंट (एम्पायर हेरीटेज) के पीछे क्या है राज, पढ़े क्यो चार... Plaza Hotel में बन रही Multistorey Market के मामले में निगम प्रशासन के खिलाफ अदालत में केस दायर करेग... प्रताप बाग के नजदीक एक दुकान के नक्शे पर बनी तीन सैनिटरी की दुकानें, चौथी की तैयारी पंजाब : SHO से परेशान ASI मुंशी ने थाने में खुद को मारी गोली, मौत

आशु की बड़ी मुश्किलें -2000 करोड़ के घोटाले में विजिलेंस को मिला तीसरी बार रिमांड

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

रोज़ाना पोस्ट 

पंजाब के पूर्व चर्चित कांग्रेसी मंत्री भारत भूषण आशू बड़ी मुश्किलों में फंसते नजर आ रहे हैं। अब ED (इंफोर्समेंट डायरेक्टोरेट) ने ट्रांसपोर्टेशन टेंडर घोटाला पर नजर जमा ली है। आज तीसरी बार आशू का विजिलेंस को 2 दिन का रिमांड मिला। आशू को 22 अगस्त को उनके घर के पास बने सैलून से विजिलेंस ने गिरफ्तार किया था। पहली बार विजिलेंस को आशू का 4 दिन का रिमांड मिला, फिर 3 दिन का और अब 2 दिन का रिमांड मिला है।सूत्र बताते हैं कि विजिलेंस अधिकारियों को ED ने पत्र भेजा है और इस मामले की पूरी जानकारी मांगी। वहीं पूर्व मंत्री आशू सहित जो लोग इस मामले में शामिल हैं, उन सभी की जांच में अभी तक क्या भूमिका है, उस पर भी रिपोर्ट देने को कहा गया है।

Cabinet minister Bharat Bhushan Ashu launches CICU directory - कैबिनेट  मंत्री भारत भूषण आशु ने लांच की CICU की डायरेक्टरी Ludhiana News

बता दें पहले ही लुधियाना इंप्रूवमेंट ट्रस्ट में LDP प्लॉट व सरकारी प्रॉपर्टी की ई-ऑक्शन में करोड़ों रुपए के घोटाले के बाद विजिलेंस की ओर से दर्ज की गई FIR के बाद इंफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) की ओर से अंदरखाते स्कैम को खंगालना शुरू किया गया है।वहीं अब फूड सप्लाई डिपाटमेंट में ट्रांसपोर्ट टेंडर में सरकारी फंड के साथ घोटाला करने संबंधी विजिलेंस FIR के बाद ED इस केस में भी दस्तक दे चुकी है। हालाकि अभी किसी अधिकारी ने इस बात की पुष्टि नहीं की, लेकिन यह खबर आधिकारिक सूत्रों के हवाले से है।अभी तक इस मामले में ED ने कोई FIR तो दर्ज नहीं की, लेकिन इस पूरे घोटाले के सबूत जरूर जुटाने शुरू कर दिए हैं। सूत्र बताते हैं कि ED इस पूरे मामले को मनी लॉड्रिंग से जोड़ कर देख रही है। इसके लिए प्रॉपर्टी मार्केट, शेयर बाजार व इंवेस्टमेंट के खातें भी खंगाले जा रहे है।