Latest news
जालन्धर विनय मंदिर के पंडित के खिलाफ ब्लात्कार का मामला दर्ज, गिरफ्तार पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान

Aggarwal Hospital की बड़ी मुश्किलें 5 घंटे कम्पनी बाग चौंक में धरने के बाद टाऊन प्लानिंग विभाग ने अग्रवाल अस्पताल को जारी किया यह Notice

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

जालन्धर /अनिल वर्मा

Aggarwal hospital jalandhar dispute जेपी नगर में स्थित अग्रवाल अस्पताल को सील करने  का मामला काफी तूल पक़ड़ चुका है। कई शिकायतों के बावजूद जब नगर निगम के टाऊन प्लानिंग विभाग ने अग्रवाल अस्पताल के खिलाफ कोई कानूनी कारवाई नहीं तो शिकायतकर्ता  ने आज निगम दफ्तर के बाहर तथा कम्पनी बाग चौंक में 5 घंटे धरना लगाया और यहां आने जाने वाले लोगों के लिए रास्ते लगभग बंद कर दिए गए। इस दौरान ट्रैफिक पुलिस की ओर से कड़ी मुश्कत करके ट्रैफिक को सुचारु किया गया। मगर पांच घंटे चले इस धरने के दौरान निगम दफ्तर के किसी भी बड़े अधिकारी ने मौके पर आकर कोई आश्वासन नहीं दिया। हालांकि शिकायतकर्ता अभी बक्शी का आरोप है कि “टाऊन प्लानिंग विभाग के एमटीपी, एटीपी तथा बिल्डंग इंस्पैक्टर मेयर जगदीश राजा के दबाव में कोई कारवाई नहीं कर रहे क्योंकि मेयर साहब इस अस्पताल में अपना मुफ्त इलाज करवाते हैं।”

बता दें कि इससे पहले भी शिकायतकर्ता अभी बक्शी ने अग्रवाल अस्पताल के बाहर भी धरना लगाकर प्रशासन पर कारवाई का दबाव बनाया था मगर कोई कारवाई नहीं हुई इसके बाद पंजाब प्रैस क्लब में भी एक प्रैसवार्ता दौरान शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि इस अस्पताल में उसके पिता के इलाज में लापरवाही के कारण मौत हुई लिहाजा यह अस्पताल के डाक्टरों के खिलाफ इलाज में कौताही बरतने के चलते कड़ी कारवाई की मांग की गई थी अब इस मामले में सिविल सर्जन दफ्तर की ओर से जांच कमेटी का गठन किया गया है जिसका नतीजा अभी आना बाकी है।

उधर अब शिकायतकर्ता ने कहा कि वह तब तक लगातार इसी तरह चौक में धरना लगाएगा जब तक रिहायशी इलाके में बने अग्रवाल अस्पताल को सील नहीं किया जाता। इसके लिए जल्द ही माननीय पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर की जाएगी। इस मामले में अग्रवाल अस्पताल से संपर्क नहीं हो सका


अग्रवाल अस्पताल को आज नोटिस जारी कर दिया गया है तथा 15 दिनों में खाली करने का समय दिया गया है तांकि वहां से सारी मेडिकल मशीनरी हटा ली जाए और जरूरी सामान बाहर निकाल लिया जाए ताकि 15 दिनों के बाद बिल्डिंग को सील करने में कोई मुश्किल न हो। 

मेहरबान सिंह (एमटीपी)

टाउन प्लानिंग विभाग, जालन्धर