Latest news
जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड निगम की मिसमैनेजमैंट का संताप नहीं झेलेंगे 66 फुटी रोड वासी, ट्रीटमैंट प्लांट पर कूड़ा फैंकना बंद कर... पंजाब- बिल्डिंग इंस्पैकटर हरप्रीत कौर को लोकल बॉडी विभाग ने किया सस्पैंड, पढ़े क्या है कारण सनसनी- जालन्धर रेलवे स्टेशन पर रखे अटैची में 32 वर्षीय व्यक्ति का शव बरामद, सीसीटीवी खंगाल रही पुलिस डीसी दफ्तर में फिर हड़ताल का बज सकता है बिगुल, यूनियन नेता पवन वर्मा के खिलाफ दर्ज हुई FIR के बाद पं...

हिमाचल : अवैध पटाखा फैक्ट्री में ब्लास्ट,18 महिलाओं समेत कुल 20 मजदूर झुलसे, 6 महिलाओं की मौके पर ही मौत



रोज़ाना पोस्ट 




blast in himachal हिमाचल प्रदेश के ऊना शहर में मंगलवार सुबह एक अवैध पटाखा फैक्ट्री में ब्लास्ट हो गया। टाहलीवाल औद्योगिक क्षेत्र के बाथू में हादसा सुबह करीब 10:15 बजे हुआ। हादसे में 18 महिलाओं समेत कुल 20 मजदूर आग की चपेट में आ गए। इनमें से 6 महिलाओं की जिंदा ही बुरी तरह जल जाने से मौके पर ही मौत हो गई। घायलों में 80% तक जल चुकीं 10 अन्य महिलाओं की हालत भी बेहद गंभीर है। इन्हें PGI चंडीगढ़ रेफर किया गया है। बाकी का इलाज ऊना के अस्पताल में ही चल रहा है।

उधर, प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश में हुए फैक्ट्री हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2-2 लाख रुपए और घायलों को 50,000 रुपए दिए जाएंगे। मृतकों और घायलों में कुछ मजदूर यूपी के, कुछ बिहार और एक पंजाब से है।

आग बुझाने के बाद शवों पर डाले गए कपड़े।

धर्म कांटे की आड़ में चल रही थी फैक्टरी
ऊना के टाहलीवाल औद्योगिक क्षेत्र में पहले धर्म कांटा बनाने का काम चल रहा था। बीते करीब 7-8 महीने से इस जगह पर अवैध रूप से पटाखे बनाने का काम चल रहा था। इस दौरान सुरक्षा मानकों का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रखा जा रहा था। मंगलवार सुबह हुए हादसे के समय 25 से ज्यादा कर्मचारी फैक्टरी में काम कर रहे थे। अचानक धमाके के बाद आग लगने पर कुछ लोग तो बाहर निकलने में कामयाब रहे, लेकिन 20 लोग आग की चपेट में आ गए। इनमें से छह महिलाएं तेजी से फैली आग में बुरी तरह घिर गई और वे सभी जिंदा ही पूरी तरह जल गईं।

एक घंटे तक जलती रही महिलाएं
मृतक महिलाएं करीब एक घंटे तक आग में जलती रहीं, और उन्हें किसी ने नहीं बचाया। करीब 11:30 बजे फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया, तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। वहीं, आग की चपेट में आकर घायल होने वालों में 12 महिलाएं और दो हेल्पर का काम करने वाले पुरुष हैं। इनमें 10 महिलाओं की हालत गंभीर है।