Latest news
MCD में फिर बजेगा AAP का डंगा, दिल्ली की जनता ने माना AAP कट्टर ईमानदार पार्टी- मनीष सिसोदिया Kulhad Pizza का नया विवाद शुरु, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो खूब हो रहा ट्रौल जालंधर-फगवाड़ा गेट की हांगकांग मार्किट को सील करने की तैयारी, कांग्रेसी राज में किसने वसूले थे 28 ला... अटारी बाजार बोर्ड वाला चौंक के पास फिर शुरु हुआ 35 अवैध दुकानों का निर्माण, "पुरानी फाईल गायब, सिस्ट... जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड

पंजाब में अवैध कब्ज़े करने वालों को CM भगवंत मान की चेतावनी, 1 जून से सख्त होगी करवाई



रोज़ाना पोस्ट 




उत्‍तर प्रदेश और दिल्‍ली में अतिक्रमण और अवैध कब्‍जे के खिलाफ कार्रवाई के बाद अब पंजाब में भी इसको लेकर हलचल है। पंजाब में भी अतिक्रमण और अवैध कब्‍जों पर बुलडोजर चल सकते हैंं। राज्‍य के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान ने सरकारी और पंचायती जमीन पर कब्‍जा करने वालोंंको चेतावनी दी है और 31 मई तक इसे स्‍वयं हटा देने का आग्रह किया है। उन्‍होंने इसके बाद कार्रवाई की चेतावनी भी दी है।  

बता दें कि पंजाब में सरकारी और पंचायती जमीन पर काफी संख्‍या में अतिक्रमण और अवैध कब्‍जे हैं। शहरों के साथ – साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी लोगाें ने सरकारी व पंचायती जमीन पर अवैध कब्‍जे कर रखे हैं। इनमें काफी संख्‍या में प्रभावशाली लोग और नेता भी शामिल हैं। पिछली सरकारों के समय भी अवैध कब्‍जा करने वालों और अतिक्रमण कारियों को नोटिस आदि दिए गए, लेकिन उसका कोई असर नहीं हुआ।         

बुधवार को राज्‍य के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान ने इस संंबंध में जारी ट्वीट किया। उन्‍होंने ट्वीट में में कहा,  मैं उन लोगों से आग्रह करता हूं जिन्होंने सरकारी या पंचायत की जमीन पर अवैध कब्जा कर लिया है, चाहे वे राजनेता हों या अधिकारी या कोई प्रभावशाली लोग, अपना अवैध कब्जा छोड़ दें और 31 मई तक जमीनों को सरकार को सौंप दें। अन्यथा पुराने आरोप और नए पत्रक मिल सकते हैं।