Latest news
जालन्धर विनय मंदिर के पंडित के खिलाफ ब्लात्कार का मामला दर्ज, गिरफ्तार पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान

पंजाब में अवैध कब्ज़े करने वालों को CM भगवंत मान की चेतावनी, 1 जून से सख्त होगी करवाई

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

रोज़ाना पोस्ट 

उत्‍तर प्रदेश और दिल्‍ली में अतिक्रमण और अवैध कब्‍जे के खिलाफ कार्रवाई के बाद अब पंजाब में भी इसको लेकर हलचल है। पंजाब में भी अतिक्रमण और अवैध कब्‍जों पर बुलडोजर चल सकते हैंं। राज्‍य के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान ने सरकारी और पंचायती जमीन पर कब्‍जा करने वालोंंको चेतावनी दी है और 31 मई तक इसे स्‍वयं हटा देने का आग्रह किया है। उन्‍होंने इसके बाद कार्रवाई की चेतावनी भी दी है।  

बता दें कि पंजाब में सरकारी और पंचायती जमीन पर काफी संख्‍या में अतिक्रमण और अवैध कब्‍जे हैं। शहरों के साथ – साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी लोगाें ने सरकारी व पंचायती जमीन पर अवैध कब्‍जे कर रखे हैं। इनमें काफी संख्‍या में प्रभावशाली लोग और नेता भी शामिल हैं। पिछली सरकारों के समय भी अवैध कब्‍जा करने वालों और अतिक्रमण कारियों को नोटिस आदि दिए गए, लेकिन उसका कोई असर नहीं हुआ।         

बुधवार को राज्‍य के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान ने इस संंबंध में जारी ट्वीट किया। उन्‍होंने ट्वीट में में कहा,  मैं उन लोगों से आग्रह करता हूं जिन्होंने सरकारी या पंचायत की जमीन पर अवैध कब्जा कर लिया है, चाहे वे राजनेता हों या अधिकारी या कोई प्रभावशाली लोग, अपना अवैध कब्जा छोड़ दें और 31 मई तक जमीनों को सरकार को सौंप दें। अन्यथा पुराने आरोप और नए पत्रक मिल सकते हैं।