Latest news
MCD में फिर बजेगा AAP का डंगा, दिल्ली की जनता ने माना AAP कट्टर ईमानदार पार्टी- मनीष सिसोदिया Kulhad Pizza का नया विवाद शुरु, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो खूब हो रहा ट्रौल जालंधर-फगवाड़ा गेट की हांगकांग मार्किट को सील करने की तैयारी, कांग्रेसी राज में किसने वसूले थे 28 ला... अटारी बाजार बोर्ड वाला चौंक के पास फिर शुरु हुआ 35 अवैध दुकानों का निर्माण, "पुरानी फाईल गायब, सिस्ट... जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड

केपी के सियासी कैरियर पर काग्रेस की ब्रेक, अंतिम सूचि में भी लगी निराशा हाथ



अब कैप्टन से उम्मीद, आदमपुर का बदलें कैंडिडेट




अनिल वर्मा
पंजाब में जिस तरह कैप्टन अमरेन्द्र सिंह को कुर्सी से हटाकर चरणजीत सिंह चन्नी को सीएम बनाया गया था तब से लेकर यह क्यास लगाए जा रहे थे कि अब एक बार फिर महिन्द्र सिंह केपी का सियासी कैरियर उदय हो गया है जिसके बाद जनता के काम करवाने के लिए केपी के घर रोज दरबार भी लगना शुरु हो गया था। यही कारण था कि केपी पहले जालन्धर वैस्ट, कैंट, आदमपुर फिर बंगा से काग्रेस की टिकट मांगते रहे मगर अंतिम सूचि में भी केपी का नाम कांग्रेस की लिस्ट में शामिल नहीं हुआ। हालाकि बीते दिनों राहुल गांधी से हुई मुलाकात के बाद केपी के हौंसले एक बार फिर बुलंद हो गए थे कि उन्हे आदमपुर हल्के में एजस्ट किया जाएगा। मगर ऐसा नहीं हुआ।


सियासी सूत्रों अनुसार अब महिन्द्र सिंह केपी दोबारा कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के संपर्क में हैं। वह आदमपुर हल्के से पीएलसी से चुनाव लड़ने के लिए कैप्टन को उम्मीदवार बदलने की पेशकश कर चुके हैं। हालांकि अभी इस बारे में कैप्टन अमरेन्दर सिंह ने कोई पेशकश नहीं की है। वहीं सियासी माहिरों का यह भी कहना है कि अब केपी के सियासी कैरियर पर पूर्ण विराम लग चुका है उन्हे कोई भी पार्टी टिकट नहीं देना चाहती। केपी वैस्ट हल्के से चुनाव लड़ने के लिए भाजपा के भी संपर्क में रहे मगर यहां भी केपी को निराशा ही हाथ लगी।