Latest news
जालन्धर विनय मंदिर के पंडित के खिलाफ ब्लात्कार का मामला दर्ज, गिरफ्तार पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान

अवैध निर्माण करने वालों को निगम की चेतावनी, अब डैमोलेशन के साथ होगा प्राप्टी मालिक के खिलाफ पर्चा दर्ज !

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

अनिल वर्मा 

नगर निगम के टाऊन प्लानिंग की  वर्किंग सुधारने और शहर में हो रहे अवैध निर्माणों को रोकने के लिए आम आदमी पार्टी ने सख्त रुख अपनाते हुए अवैध निर्माण करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की कवायद शुरु की जा रही है। जिसमें संबधित बिल्डिंग इंस्पैक्टर की रैकमैंडेशन के आधार पर प्राप्टी मालिक के खिलाफ कानूनी करने के लिए पुलिस कमिशनर को रिपोर्ट भेजी जाएगी। विभाग के सूत्रों ने बताया कि एक सप्ताह के भीतर शहर में चल रहे सभी अवैध निर्माणों की सूचि तैयार करने के लिए बिल्डिंग इंस्पैक्टरों को आदेश जारी किए जा चुके हैं तांकि सैक्टर वाईस चल रहे सभी अवैध निर्माण को समय रहते गिराया जाए और प्राप्टी मालिक के खिलाफ नगर निगम एक्ट 1976 के तहत कारवाई की जाएगी।

 

कल बाद दोपहर टाऊन प्लानिंग विभाग ने रणजीत नगर की रैसीडैंशल प्राप्टी पर बनाई जा रही अवैध दुकानों को गिरा दिया था यहां बिना मंजूरी कई दुकानें बनाई जा रही थी जिसमें एक दुकान का लैंटर डाल कर यहां शटर तक लगा दिया गया था। एटीपी राजिंदर शर्मा ने बताया कि कमिशनर करनेश शर्मा के आदेशों के बाद दुकानों को गिरा दिया गया इन दुकानों का कोई भी नक्शा पास नहीं करवाया गया था। निर्माण रोक दस्तावेज पेश करने के लिए प्राप्टी मालिक को नोटिस जारी किया गया था मगर ज्वाब नहीं मिला। जिसके  बाद बिल्डिंग इंस्पैक्टर हरप्रीत कौर की रिपोर्ट को उच्चाधिकारियों को पेश किया गया । देखना दिलचस्प होगा की क्या अब नगर निगम इस प्रॉपर्टी मालिक के खिलाफ पर्चा दर्ज करवा पता है या नहीं ?