Latest news
MCD में फिर बजेगा AAP का डंगा, दिल्ली की जनता ने माना AAP कट्टर ईमानदार पार्टी- मनीष सिसोदिया Kulhad Pizza का नया विवाद शुरु, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो खूब हो रहा ट्रौल जालंधर-फगवाड़ा गेट की हांगकांग मार्किट को सील करने की तैयारी, कांग्रेसी राज में किसने वसूले थे 28 ला... अटारी बाजार बोर्ड वाला चौंक के पास फिर शुरु हुआ 35 अवैध दुकानों का निर्माण, "पुरानी फाईल गायब, सिस्ट... जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड

संत सीचेवाल की चुनावी घोषणापत्र को कानूनी दस्तावेज बनाने की मांग, मुख्य चुनाव आयुक्त को सौंपा ज्ञापन



पंजाब वातावरण लोक चेतना लहर का नेतृत्व कर रहे वातावरण प्रेमी संत बलबीर सिंह सीचेवाल और कन्वीनर काहन सिंह पन्नू ने राजनीतिक दलों के चुनावी घोषणापत्र को कानूनी दस्तावेज बनाने की मांग की है। उन्होंने इस संबंध में एक ज्ञापन चंडीगढ़ में पंजाब के मुख्य चुनाव आयुक्त को सौंपा, जिन्होंने इसे केंद्रीय मुख्य चुनाव आयुक्त तक पहुंचाकर इस पर गंभीरता से विचार करने की बात कही।पद्मश्री संत बलबीर सिंह सीचेवाल ने कहा कि पंजाब पांच दरियाओं की धरती है और कुदरत ने इसे असंख्य नियामते दी हैं। आज पांच दरियाओं की धरती बेआब और ज़हरआब होती जा रही है। सोने की चिड़िया के नाम के साथ जाने जाते पंजाब में आज हमारी हवा, पानी और धरती तीनों ही बुरी तरह प्रदूषित हो चुके हैं।




उन्होंने कहा कि भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। यहां हर 5 वर्ष बाद लोग अपनी वोट की ताकत के साथ सरकार चुनते हैं। दुख की बात है कि हर बार लोक सेवा के नाम पर पार्टियां सत्ता तो हासिल कर लेती हैं, लेकिन लोगों के जीवन के साथ जुड़े चुनाव घोषणा पत्र को लेकर हमेशा चुप रहती हैं।

संत सीचेवाल ने कहा कि लोकतंत्र की सफलता के लिए लोगों का जागरूक होना बेहद ज़रूरी है। पढ़ा-लिखा और बुद्धिमान वर्ग मतदान को लेकर इसलिए उदासीन होता है क्योंकि उसे महसूस होता है कि राजनेताओं ने जो वादे चुनाव घोषणापत्र में किए हैं, उन्हें वह पूरे करेंगे। उन्होंने कहा कि ऐसे माहौल में वोट डालना एक मजबूरी बन कर रह गया है क्योंकि लोग तभी वोट के अधिकार का उचित प्रयोग करेंगे जब उन्हें उपयुक्त माहौल प्रदान किया जायेगा।