Latest news
जालन्धर विनय मंदिर के पंडित के खिलाफ ब्लात्कार का मामला दर्ज, गिरफ्तार पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान

कांग्रेस के खिलाफ जालंधर में प्रदर्शन, तीन पार्टियों के नेताओं ने पुलिस पर लगाया यह आरोप

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

जालंधर 

जालंधर में दो दिन पहले भार्गव कैंप में लड़कियों के सरकारी स्कूल के पास भाजपा प्रत्याशी महेंद्र भगत की रैली में कांग्रेसी और भाजपाइयों के बीच हुए विवाद के बाद सोमवार को पुलिस ने भाजपा समर्थक युवक को गिरफ्तार कर लिया। कांग्रेसी समर्थकों की शिकायत के बाद हुई इस कार्रवाई के विरोध में भाजपा, अकाली और आप एक ही मंच पर इकट्ठा हो गए। भाजपा प्रत्याशी महेंद्र भगत, आप प्रत्याशी शीतल अंगुराल और अकाली नेता कीमती भगत समर्थकों सहित पकड़े गए युवक के समर्थन में थाने पहुंच गए। इससे पहले भाजपा समर्थकों ने नकोदर रोड पर जाम लगाकर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की।

लोगों का आरोप था कि कांग्रेसी विधायक के दबाव में आकर पुलिस ने भाजपा समर्थकों को उठाया है। जब तीनों पार्टियों के नेता मौके पर पहुंचे तो एडीसीपी टू हरपाल सिंह, एसीपी वेस्ट वरयाम सिंह और थाना भार्गव कैंप के प्रभारी कुलदीप सिंह भी मौके पर पहुंच गए। सारे नेता थाने में पहुंचे तो वहां पर भी उनके समर्थकों ने जमकर नारेबाजी की। भाजपा प्रत्याशी महेंद्र भगत ने बताया कि पुलिस ने मुकेश नाम के जिस व्यक्ति को विवाद में उठाया है, वह मौके पर था ही नहीं। वहां की सारी वीडियो पुलिस ने निकलवाई है लेकिन मुकेश उसमें नहीं था। इसके बावजूद कांग्रेसी समर्थकों ने उसका नाम लिखा दिया और पुलिस ने बिना जांच के ही मुकेश को उठा लिया।