Latest news
जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड निगम की मिसमैनेजमैंट का संताप नहीं झेलेंगे 66 फुटी रोड वासी, ट्रीटमैंट प्लांट पर कूड़ा फैंकना बंद कर... पंजाब- बिल्डिंग इंस्पैकटर हरप्रीत कौर को लोकल बॉडी विभाग ने किया सस्पैंड, पढ़े क्या है कारण सनसनी- जालन्धर रेलवे स्टेशन पर रखे अटैची में 32 वर्षीय व्यक्ति का शव बरामद, सीसीटीवी खंगाल रही पुलिस डीसी दफ्तर में फिर हड़ताल का बज सकता है बिगुल, यूनियन नेता पवन वर्मा के खिलाफ दर्ज हुई FIR के बाद पं...

डेरा प्रमुख राम रहीम की पेरोल बदलेगी मालवा की 35 सीटों का गणित



रोज़ाना पोस्ट 




Ream Rahim punjab election 2022: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को दी गई 21 दिन की पेरोल से पंजाब में नया राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया है। पंजाब में मतदान से ठीक दो हफ्ते पहले उन्हें पेरोल  दिया जाना इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि डेरा सच्चा सौदा का मालवा की 35 से ज्यादा सीटों पर सीधा प्रभाव है। वहीं डेरा मुखी को पेरोल देने पर शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) के अध्यक्ष हरजिंदर सिंह धामी ने कहा है कि यह फैसला पंजाब की भाईचारक सांझ को नुकसान पहुंचाने वाला है।

 

दरअसल, धामी का यह बयान इस संदर्भ में आया है कि पंजाब में एक ओर श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम उनसे पूछताछ करने के लिए रोहतक की जेल में भी गई और संतुष्ट न होने पर उन्हें पूछताछ के लिए पंजाब में लाने के लिए अदालत का दरवाजा खटखटा रही है। 2015 में गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की घटना पंजाब में पिछले विधानसभा चुनाव से ही बड़ा मुद्दा बनी हुई है और इसके लिए डेरा प्रेमियों पर शक की सुई घूम रही है। इससे पहले 2007 में डेरा सच्चा सौदा मुखी द्वारा गुरु गोबिंद सिंह जैसी पोशाक पहनना डेरा प्रेमियों और सिख संगठनों के बीच विवाद का कारण बना।

 

Dera chief Ram Rahim payroll