Latest news
जालन्धर-मंडी फैंटनगंज में बनी दो बड़ी नाजायज इमारतों के खिलाफ कारवाई न करने वाले 7 अधिकारियों के खिल... जाल्नधर - Charcoal Restaurant में खाना खाकर बच्चों समेत तीन महिलाएं मौके पर हुई बेहोश,अस्पताल में भर... जालन्धरः डीसीपी नरेश डोगरा पर दिन चढ़ते ही गिरी एक ओर गाज, पढे पूरा मामला जालन्धरः दुकानदारों के मामूली विवाद ने लिया भयानक रुप,डीसीपी नरेश डोगरा के खिलाफ ही दर्ज हुई FIR, पढ... नशे में धुत व्यक्ति ने घर में घुसकर की मारपीट और तोड़फोड़, पुलिस के साथ भी झगड़ा पंजाब में सियासत गर्माई- ओप्रेशन लोटस के विवाद पर पंजाब में भाजपा पर केस दर्ज, विजीलैंस को सौंपी जां... चार साल बाद री-सील हुआ विरासत हवेली रैस्टोंरैंट (एम्पायर हेरीटेज) के पीछे क्या है राज, पढ़े क्यो चार... Plaza Hotel में बन रही Multistorey Market के मामले में निगम प्रशासन के खिलाफ अदालत में केस दायर करेग... प्रताप बाग के नजदीक एक दुकान के नक्शे पर बनी तीन सैनिटरी की दुकानें, चौथी की तैयारी पंजाब : SHO से परेशान ASI मुंशी ने थाने में खुद को मारी गोली, मौत

पंजाब में विजीलैंस का दबदबा- अब पंजाब पुलिस के AIG आशीष कपूर के घर पर दबिश,आय से अधिक संपति की जांच

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

रोजाना पोस्ट (ब्यूरो पंजाब)

पंजाब विजिलेंस ब्यूरो का दबदबा राजनीतिक दलों के साथ साथ सरकार में उच्च पद पर तैनात अफसरों पर कसता जा रहा है आज सुबह पांच बजे ही विजीलैंस विभाग की टीम ने पंजाब पुलिस के एआईजी आशीष कपूर के चंडीगढ़ स्थित सैक्टर 88 में निवास स्थान पर रेड की।  विजीलैंस को इनपुट मिली है कि  कई उच्च पद पर तैनात अफसरों के पास आय से अधिक सपंति है जिसकी टैक्निकल जांच शुरु की गई है इस सूचि में कई विभागों के अफसरों के नाम शामिल होने की सूचना है। 

इस संबंध में विजीलैंस विभाग के अधिकारियों ने कुछ भी बताने से इन्कार कर दिया। फिलहाल इतनी ही जानकारी मिली है कि आशीष कपूर की संपत्ति की टेक्निकली जांच की जा रही है। टीम अभी उनके घर के अंदर ही मौजूद है। अधिकारियों के बाहर आने के बाद ही कुछ डिटेल मिल पाएगी।

 

पंजाब विजिलेंस ब्यूरो इन दिनों सक्रिय है। गत दिवस भ्रष्टाचार के विरुद्ध शुरू गई मुहिम के तहत विजिलेंस ने मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर ( एमवीआइ) जालंधर नरेश कलेर और एक प्राइवेट एजेंट रामपाल उर्फ राधे को काबू करके उनके पास से वाहनों के लिए फिटनेस सर्टिफिकेट जारी करने के संदिग्ध दस्तावेज बरामद किए थे। साथ ही रिश्वत की रकम के 12.50 लाख रुपये भी बरामद किए गए थे।