Latest news
जालन्धर-मंडी फैंटनगंज में बनी दो बड़ी नाजायज इमारतों के खिलाफ कारवाई न करने वाले 7 अधिकारियों के खिल... जाल्नधर - Charcoal Restaurant में खाना खाकर बच्चों समेत तीन महिलाएं मौके पर हुई बेहोश,अस्पताल में भर... जालन्धरः डीसीपी नरेश डोगरा पर दिन चढ़ते ही गिरी एक ओर गाज, पढे पूरा मामला जालन्धरः दुकानदारों के मामूली विवाद ने लिया भयानक रुप,डीसीपी नरेश डोगरा के खिलाफ ही दर्ज हुई FIR, पढ... नशे में धुत व्यक्ति ने घर में घुसकर की मारपीट और तोड़फोड़, पुलिस के साथ भी झगड़ा पंजाब में सियासत गर्माई- ओप्रेशन लोटस के विवाद पर पंजाब में भाजपा पर केस दर्ज, विजीलैंस को सौंपी जां... चार साल बाद री-सील हुआ विरासत हवेली रैस्टोंरैंट (एम्पायर हेरीटेज) के पीछे क्या है राज, पढ़े क्यो चार... Plaza Hotel में बन रही Multistorey Market के मामले में निगम प्रशासन के खिलाफ अदालत में केस दायर करेग... प्रताप बाग के नजदीक एक दुकान के नक्शे पर बनी तीन सैनिटरी की दुकानें, चौथी की तैयारी पंजाब : SHO से परेशान ASI मुंशी ने थाने में खुद को मारी गोली, मौत

सिविल अस्पताल जालंधर में इलाज़ करवाना है तो टार्च और पक्खी साथ लेकर आएं ! सेहत मंत्री का दौरा भी नहीं सुधार सका हालात

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

रोजाना पोस्ट

मंगलवार को पंजाब के सेहत मंत्री चेतन सिंह जोड़ामाजरा द्वारा जालन्धर सिविल अस्पताल का दौरा किया और यहां दाखिल मरीजों की समस्तयाओं को दरकिनार कर सारा ध्यान साफ सफाई पर केन्द्रित किया इस दौरान यहां दाखिल मरीजों में खासी निराशा पाई जा रही है। बीती रात 12 बजे सिविल अस्पताल के जच्चा बच्चा वार्ड में अचानक बिजली गुल हो गई और यहां दाखिल नवजात शिशुओं तथा उनकी माताओं को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। पूरा वार्ड उमस से भर गया और यहां सांस लेना भी काफी दुर्लभ हो गया था मगर ड्यूटी पर तैनात डाक्टर टार्च लेकर मरीजों का इलाज करते रहे। 

सिविल अस्पताल में लाइट आने का इंतजार करते हुए लोग। (जागरण)

बता दें कि, स्वजन मोबाइल की टार्च जलाकर देखभाल करते रहे। हालांकि वार्ड का कुछ हिस्सा और आपरेशन थिएटर जेनरेटर के साथ शुरू हो गया, लेकिन वार्ड में लाइट करीब सवा एक बजे आई। काफी समय तक लाइट नहीं आने के कारण मरीजों के परिजनों ने वार्ड में हंगामा किया। स्टाफ के साथ उनकी तू-तू मैं-मैं भी हो गई। वे अपने नवजात बच्चों को वार्ड के बाहर खुली हवा में ले आए क्योंकि अंदर उमस के कारण काफी परेशानी हो रही थी।

अस्पताल के कार्यकारी मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डा गुरमीत लाल कहना है कि देर रात उन्हें सूचना मिली। इसके बाद तुरंत संबंधित विभाग के कर्मचारियों को मौके पर भेजकर फाल्ट ढूंढकर ठीक करवाने के आदेश दिए गए। फाल्ट को एक घंटे में ठीक कर दिया गया। साथ ही मरीजों को भी समझाया गया।

400 x 400
Slide
400 x 400
previous arrow
next arrow