Latest news
पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार IAS की बढ़ी मुश्किलें, एक और मामला दर्ज

जालन्धर- सेठ हुकम चंद स्कूल में 40 रुपये कीमत वाली किताबे बेची जा रही थी 350 रुपये में, शिकायत पर मौके पर पहुंचे विधायक रमन अरोड़ा और जीएसटी की टीम और फिर..

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

रोजाना पोस्ट

Seth Hukam Chand School Jalandhar पंजाब में प्राईवेट स्कूलों द्वारा मचाई जा रही लूट के खिलाफ कई सालों से अभिभावकों ने मोर्चा खोला था जिसमें सरकारों को भी स्कूल प्रबंधकों के खिलाफ कारवाई न करने के लिई खूब कोसा जाता था मगर अब सरकार खुद प्राईवेट स्कूलों की मनमानियों के खिलाफ अभिभावकों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी हो गई है। बीते दिनों पंजाब सरकार की ओर से जारी आदेश अनुसार किसी भी प्राईवेट स्कूल को फीसों में बढौतरी करने पर सख्ती से रोक लगाई गई थी

मगर प्राईवेट स्कूलों के प्रबंधकों द्वारा सरकार द्वारा जारी इस आदेश के खिलाफ अपनी मनमानियां जारी रखने का ऐलान किया था। आज सोढल क्षेत्र में स्थित सेठ हुकम चंद स्कूल मे उस वक्त अफरा तफरी मच गई जब सैंट्रल हल्के से विधायक रमन अरोड़ा ने खुद मौके पर पहुंच कर स्कूलल प्रशासन की ओर से छात्रों के मनमानें दामों पर किताबें बेचते हुए रंगेहाथों काबू किया। रमन अरोड़ा ने मौके पर जीएसटी विभाग के अधिकारियों को बुलाया और स्कूल प्रशासन के खिलाफ सख्त कारवाई करने के लिए कहा। मौके पर पहुंची जीएसटी विभाग की टीम ने जब किताबों की कीमत का आंकलन किया तो किताबों पर छपी कीमत दस गुणा पाई गई।

 

टीम ने कहा कि छठी कक्षा की किताब का प्रिंट रेट 350 है जबकि इसकी बाजारी कीमत 40 रुपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। यह सारा खेल स्कूल प्रशासन की मिलीभगत से खेला जा रहा है। मौके पर थाना 3 और 2 की पुलिस भी पहुंच गई और स्टाक को अपने कब्जे में ले लिया गया है। खबर लिखे जाने तक अभी स्कूल में जीएसटी विभाग की टीम, विधायक रमन अरोड़ा तथा भारी पुलिस फोर्स तैनात थी।