Latest news
MCD में फिर बजेगा AAP का डंगा, दिल्ली की जनता ने माना AAP कट्टर ईमानदार पार्टी- मनीष सिसोदिया Kulhad Pizza का नया विवाद शुरु, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो खूब हो रहा ट्रौल जालंधर-फगवाड़ा गेट की हांगकांग मार्किट को सील करने की तैयारी, कांग्रेसी राज में किसने वसूले थे 28 ला... अटारी बाजार बोर्ड वाला चौंक के पास फिर शुरु हुआ 35 अवैध दुकानों का निर्माण, "पुरानी फाईल गायब, सिस्ट... जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड

बगावत पर उतरे केपी: जालन्धर के तीन हल्कों में बिगाड़ेंगे कांग्रेस का खेल..समर्थकों को किया जा रहा एक्टिव..



अनिल वर्मा
Mahinder singh kay pee टिकट कटने के बाद महिन्द्र सिंह केपी ने कांग्रेस के साथ बगावत करने का फैसला कर लिया है। कल इस मुहिम की शुरुआत करते हुए केपी ने फोलड़ीवाल में अपने समर्थकों के साथ मीटिंग दौरान की। केपी कांग्रेस हाईकमान के साथ साथ जालन्धर के तीन विधायकों का से खासे नाराज हैं। जिनमें जालन्धर वैस्ट, कैंट तथा आदमपुर शामिल है। केपी ने इन तीनों हल्कों में अपने समर्थकों को एक्टिव रहने के लिए संकेत दे दिए हैं। केपी सबसे ज्यादा वैस्ट हल्के से टिकट लेने के चाहवान थे मगर सिटिंग एमएलए सुशील रिंकू ने चन्नी के साथ नजदीकियां बढ़ाकर केपी का खेल बिगाड़ दिया। इसके बाद केपी ने कैंट हल्के में नजर रखी मगर यहां भी परगट ने सियासी चाल से केपी को मात दे दी।




मगर आदमपुर हल्के में केपी ने अपने पांव पर खुद कुलहाड़ी मारते हुए सुखविंदर सिंह कोटली को कांग्रेस में शामिल करवाया और कांग्रेस ने कोटली को पर ही आखिरी दांव खेलते हुए टिकट दी। मगर इन तीनों हल्कों में केपी की जलालत होने के बाद केपी समर्थकों में भारी रोष व्याप्त है। माना जा रहा है कि केपी जालन्धर के इन तीनों हल्कों में कांग्रेस का खेल बिगाड़ सकते हैं जिससे विपक्षी दलों को फायदा हो सकता है।