Latest news
जालन्धर विनय मंदिर के पंडित के खिलाफ ब्लात्कार का मामला दर्ज, गिरफ्तार पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान

मेयर और बेरी का अभी भी नगर निगम में दबदबा कायम, नहीं थम रही अवैध इमारतों की सिफारिशें- अजय

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

अनिल वर्मा वरुण अग्रवाल

शहर में  सियासी दबाव में अवैध इमारतें बनवाने का खेल पिछले लंबे से चल रहा है जिससे 12 साल बीतने के बाद भी मास्टर प्लान को लागू नहीं किया जा सका। ताजा मामला सैदां गेट, मंडी फैंटनगंज और सिविल लाईन से सामने आया है जहां मेयर तथा बेरी की कथित सिफारिशों पर बिना नक्शा पास करवाए बड़ी बड़ी कारोबारी इमारतें तैयार करवाई जा रही है। उक्त बातों का प्रकटावा करते हुए शिकायतकर्ता अजय ने कहा कि बिल्डिंग विभाग में कई शिकायतें करने के बावजूद एटीपी राजिन्द्र शर्मा ने मौके पर काम बंद नहीं करवाया और न ही अभी तक किसी को नोटिस जारी किया है।

बताया जा रहा है कि यह तीनों इमारतें पूरी तरह से अवैध है और पूर्व विधायक रजिंदर बेरी तथा मेयर जगदीश राजा के दबाव में बनवाई जा रही है। अजय ने कहा कि तीनों इमारतों की वीडिग्राफी की गई है तथा जल्द ही मेयर तथा रजिंदर बेरी की शह पर बनाई गई अवैध इमारतों की पूरी सूचि आम आदमी पार्टी पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को सौंपेगे और कारवाई की मांग करेंगे। इन अवैध इमारतों के बदले सरकार के राजस्व की चोरी की जाती है अगर इन इमारतों का नक्शा पास करवा कर  बनवाया जाए तो सरकार के खजाने में लाखों रुपये टैक्स जमा होगा जिससे आम जनता का विकास हो सकता है। शिकायतकर्ता ने कहा कि वह टाऊन प्लानिंग विभाग की पिछले पांच सालों की कार्यप्रणाली के खिलाफ जल्द माननीय हाईकोर्ट में एक याचिका दायर करने की तैयारी कर रहे है।