Latest news
MCD में फिर बजेगा AAP का डंगा, दिल्ली की जनता ने माना AAP कट्टर ईमानदार पार्टी- मनीष सिसोदिया Kulhad Pizza का नया विवाद शुरु, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो खूब हो रहा ट्रौल जालंधर-फगवाड़ा गेट की हांगकांग मार्किट को सील करने की तैयारी, कांग्रेसी राज में किसने वसूले थे 28 ला... अटारी बाजार बोर्ड वाला चौंक के पास फिर शुरु हुआ 35 अवैध दुकानों का निर्माण, "पुरानी फाईल गायब, सिस्ट... जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड

मेयर और बेरी का अभी भी नगर निगम में दबदबा कायम, नहीं थम रही अवैध इमारतों की सिफारिशें- अजय



अनिल वर्मा वरुण अग्रवाल




शहर में  सियासी दबाव में अवैध इमारतें बनवाने का खेल पिछले लंबे से चल रहा है जिससे 12 साल बीतने के बाद भी मास्टर प्लान को लागू नहीं किया जा सका। ताजा मामला सैदां गेट, मंडी फैंटनगंज और सिविल लाईन से सामने आया है जहां मेयर तथा बेरी की कथित सिफारिशों पर बिना नक्शा पास करवाए बड़ी बड़ी कारोबारी इमारतें तैयार करवाई जा रही है। उक्त बातों का प्रकटावा करते हुए शिकायतकर्ता अजय ने कहा कि बिल्डिंग विभाग में कई शिकायतें करने के बावजूद एटीपी राजिन्द्र शर्मा ने मौके पर काम बंद नहीं करवाया और न ही अभी तक किसी को नोटिस जारी किया है।

बताया जा रहा है कि यह तीनों इमारतें पूरी तरह से अवैध है और पूर्व विधायक रजिंदर बेरी तथा मेयर जगदीश राजा के दबाव में बनवाई जा रही है। अजय ने कहा कि तीनों इमारतों की वीडिग्राफी की गई है तथा जल्द ही मेयर तथा रजिंदर बेरी की शह पर बनाई गई अवैध इमारतों की पूरी सूचि आम आदमी पार्टी पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को सौंपेगे और कारवाई की मांग करेंगे। इन अवैध इमारतों के बदले सरकार के राजस्व की चोरी की जाती है अगर इन इमारतों का नक्शा पास करवा कर  बनवाया जाए तो सरकार के खजाने में लाखों रुपये टैक्स जमा होगा जिससे आम जनता का विकास हो सकता है। शिकायतकर्ता ने कहा कि वह टाऊन प्लानिंग विभाग की पिछले पांच सालों की कार्यप्रणाली के खिलाफ जल्द माननीय हाईकोर्ट में एक याचिका दायर करने की तैयारी कर रहे है।