Latest news
जालन्धर विनय मंदिर के पंडित के खिलाफ ब्लात्कार का मामला दर्ज, गिरफ्तार पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान

नवजोत सिंह सिद्धू की आज बढ़ सकती हैं मुश्किलें, सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

रोजाना पोस्ट

Novjot Singh Sidhu Accident case अमृतसर ईस्ट से विधानसभा चुनाव हारने वाले पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान नवजोत सिद्धू की मुश्किलें आने वाले दिनों में बढ़ सकती हैं। सिद्धू के खिलाफ रोडरेज मामले में आज दोपहर 2 बजे सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी। सिद्धू का 1988 में पटियाला में पार्किंग को लेकर झगड़ा हुआ था। जिसमें एक बुजुर्ग की मौत हो गई। इस मामले में पहले सुप्रीम कोर्ट ने सिद्धू को 1 हजार का जुर्माना लगाकर छोड़ दिया था। इसके खिलाफ पीड़ित पक्ष ने पुनर्विचार याचिका दाखिल कर दी। सिद्धू ने इसके जवाब में अपने क्रिकेट और राजनीति के अच्छे करियर का हवाला देते हुए याचिका रद्द करने की अपील की है।

जानें-कौन हैं पंजाब कांग्रेस के नए अध्यक्ष नवजोत सिद्धू के साथ कार्यकारी  अध्यक्ष बनाए गए चार चेहरे - Navjot Singh Sidhu Congress Punjab Chief  Profile of Sidhu Pawan Goel ...
याचिका के बाद नवजोत सिद्धू ने एफिडेविट दाखिल किया था कि पिछले 3 दशक में उनका राजनीतिक और खेल करियर बेदाग रहा है। राजनेता के तौर पर उन्होंने न सिर्फ अपने विस क्षेत्र अमृतसर ईस्ट बल्कि सांसद के तौर पर बेजोड़ काम किया है। उन्होंने लोगों के भले के लिए कई काम किए हैं। उनसे कोई हथियार भी बरामद नहीं हुआ और उनकी मरने वाले से कोई दुश्मनी भी नहीं थी। उन्होंने कहा कि पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी जाए। उन्हें दी गई 1 हजार जुर्माने की सजा पर्याप्त है।