Latest news
जालन्धर-मंडी फैंटनगंज में बनी दो बड़ी नाजायज इमारतों के खिलाफ कारवाई न करने वाले 7 अधिकारियों के खिल... जाल्नधर - Charcoal Restaurant में खाना खाकर बच्चों समेत तीन महिलाएं मौके पर हुई बेहोश,अस्पताल में भर... जालन्धरः डीसीपी नरेश डोगरा पर दिन चढ़ते ही गिरी एक ओर गाज, पढे पूरा मामला जालन्धरः दुकानदारों के मामूली विवाद ने लिया भयानक रुप,डीसीपी नरेश डोगरा के खिलाफ ही दर्ज हुई FIR, पढ... नशे में धुत व्यक्ति ने घर में घुसकर की मारपीट और तोड़फोड़, पुलिस के साथ भी झगड़ा पंजाब में सियासत गर्माई- ओप्रेशन लोटस के विवाद पर पंजाब में भाजपा पर केस दर्ज, विजीलैंस को सौंपी जां... चार साल बाद री-सील हुआ विरासत हवेली रैस्टोंरैंट (एम्पायर हेरीटेज) के पीछे क्या है राज, पढ़े क्यो चार... Plaza Hotel में बन रही Multistorey Market के मामले में निगम प्रशासन के खिलाफ अदालत में केस दायर करेग... प्रताप बाग के नजदीक एक दुकान के नक्शे पर बनी तीन सैनिटरी की दुकानें, चौथी की तैयारी पंजाब : SHO से परेशान ASI मुंशी ने थाने में खुद को मारी गोली, मौत

नशा तस्करों की आई शामत, 330 पुलिस मुलाज़िमों की टीमों ने मारा इस गांव में छापा

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

रोज़ाना पोस्ट 

नशे के खिलाफ चलाई जा रही मुहिम के अंतर्गत शनिवार को जालंधर पुलिस के एसएसपी स्वपन शर्मा की देखरेख में 300 के करीब अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने भोगपुर के गांव किगंला चोअ में गुपचुप तरीके से रेड कर डाली। इस दौरान दर्जनों घरों की तलाशी ली गई।

करतारपुर में एक साथ एकत्रित पुलिस कर्मचारी। (जागरण)

एसएसपी स्वपन शर्मा के निर्देशों पर करतारपुर स्थित डीएसपी कार्यालय के बाहर जालंधर में तैनात 300 के करीब अधिकारियों एवं कर्मचारियों को एकत्रित किया गया। सुबह 6 बजे से ही पुलिस कर्मचारियों के पहुंचने से करतारपुर वासियों में जिज्ञासा जागने लगी थी कि आखिर क्या होने जा रहा है। एक साथ इतनी पुलिस एकत्रित होना उनको सोचने पर मजबूर कर रहा था। वहीं 7:45 बजे के करीब एसएसपी स्वपन शर्मा पहुंचे और पुलिस कर्मचारियों ने उनका स्वागत किया। इस दौरान सब कुछ गुप्त रखा गया।

परवाणु: नशा तस्करों से 52.46 ग्राम चिट्टा बरामद | Third Eye Today

करतारपुर पहुंचने के बाद एसएसपी साहब ने पुलिस कर्मचारियों को निर्देश देते हुए उनके मोबाइल फोन बंद करवा दिए, ताकि नशे के सौदागरों को इस बारे में कोई जानकारी ना मिल सकें। पुलिस कर्मचारियों को निर्देश दिया कि जिस घर में जाना है उनके बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करनी है। बाद में कर्मचारियों को बिना कुछ बताए कहा कि ‘आप मेरे पीछे आ जाओ।’ अंतिम समय तक किसी को भी मालूम नहीं था कि क्या करना है।