Latest news
MCD में फिर बजेगा AAP का डंगा, दिल्ली की जनता ने माना AAP कट्टर ईमानदार पार्टी- मनीष सिसोदिया Kulhad Pizza का नया विवाद शुरु, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो खूब हो रहा ट्रौल जालंधर-फगवाड़ा गेट की हांगकांग मार्किट को सील करने की तैयारी, कांग्रेसी राज में किसने वसूले थे 28 ला... अटारी बाजार बोर्ड वाला चौंक के पास फिर शुरु हुआ 35 अवैध दुकानों का निर्माण, "पुरानी फाईल गायब, सिस्ट... जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड

जीता मोड़ के घर फिर STF की रेड, 38 लाख नगद और 200 से ज्यादा प्लाटों की रजिस्ट्रियां बरामद



रोजाना पोस्ट




Jeeta mod raid इंटरनेशनल ड्रग रैकेट मामले में पकड़े गए पूर्व ए.सी.पी. बिमलकांत और नशा तस्कर रणजीत सिंह उर्फ जीता मौड़ के काला संघिया स्थित घर में सर्च दौरान एस.टी.एफ. को 38.50 लाख रुपए की नकदी सहित प्लाटों की 200 के करीब रजिस्ट्रियां बरामद हुई हैं। मिली जानकारी देते एस.टी.एफ को इस ड्रग केस में अब तक तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। बाकी 9 मुलाजिम अब तक फरार है जिसमें जीता मौड़ की पत्नी, पारिवारिक मैंबर, 2 सी.ए. सहित कई नामी नशा तस्कर शामिल हैं। इस सर्च मुहिम के अंतर्गत करीब 4 दर्जन बैंक की पासबुक भी बरामद की गई हैं जिनसे जीता मौड़ के विभिन्न बैंक खातों का पता लगा है। उन्होंने बताया कि पुलिस रिमांड दौरान अब कई अहम खुलासे होने की संभावना है जो आने वाले दिनों में एस.टी.एफ. कर सकती है।

 

The Shepherd' New International Film Based On The Farmers Protest Announced!
चहेते पुलिस अधिकारियों के कारण ए.एस.आई. मुनीष कुमार को बिना ऑर्डर पर जीता मौड़ ने अपने साथ रखा था जिसमें एसीपी रहे बिमलकांत ने अहम भूमिका निभाई थी। उक्त मामले में गिरफ्तार ए.एस.आई. मुनीष कुमार की ड्यूटी पी.ए.पी. 7 बटालियन में थी लेकिन पिछले कई वर्षों से जीता मौड़ के कुछ चहेते पुलिस अधिकारियों कारण अपनी ड्यूटी जीता मौड़ के साथ कर रहा था। खास बात है कि इस संबंध में कोई भी विभागीय आदेश जारी नहीं किए गए थे। 


 

नशा तस्कर जीता मौड़ ने नशे की कमाई से सैकड़ों की संख्या में कालोनियां प्लाट, मकान और कई स्कूल बनाए हैं जिसके सबूत एस.टी.एफ के हाथ लग चुके हैं जिस सम्बन्धित पुलिस गंभीरता से जांच कर रही है। पुलिस इससे सम्बन्धित व्यक्तियों और किस-किस का पैसा लगा होने की जांच कर रही है। जीता मौड़ के पास जो एक पिस्टल और एक रिवाल्वर और भारी संख्या में कारतूस बरामद हुए हैं। इस सम्बन्धित भी पुलिस की जांच जारी है कि यह हथियार कहां से जीता मौड़ तक पहुंचा।