Latest news
जालन्धर विनय मंदिर के पंडित के खिलाफ ब्लात्कार का मामला दर्ज, गिरफ्तार पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान

सुनील जाखड़ तथा नवजोत सिंह सिद्घू ने पंजाब के डेरों खिलाफ टिप्पणी, “डेरों की दुकान हुई बेनकाब”

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

रोज़सना पोस्ट 

Sunil Jakhar and Navjot Singh Sidhu remark against Deras of Punjab पंजाब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पार्टी के पूर्व प्रदेश प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू ने डेरों पर तंज कसा। सुनील जाखड़ ने कहा कि इस चुनाव में डेरे एक्सपोज हो गए हैं। जिन लोगों ने अपने अनुयायियों के वोट बेचने के लिए या राजनीतिक/फिल्मी फायदे के लिए गुरु के नाम पर डेरा जैसी दुकानें खोली हैं। वे चुनाव के कारण बेनकाब हो गए हैं। धर्म के नाम पर राजनीति करने वालों और बेअदबी को बढ़ावा देने वाले आज राजनीतिक रूप से नष्ट हो गए हैं।

बता दें, इस विधानसभा चुनाव में डेरा सच्चा सौदा सहित अन्य डेरों ने कुछ राजनीतिक दलों के पक्ष में फतवा जारी किया था, लेकिन जो चुनाव परिणाम आए उससे डेरों का वोट कहां है इस बारे में कुछ पता नहीं चल रहा।  पंजाब चुनाव में आम आदमी पार्टी को एकतरफा वोट पड़े। आप ने राज्य की 117 सीटों में से 92 सीटों पर शानदार जीत दर्ज की, जबकि डेरे का दावा था कि मालवा में उनका प्रभाव है। वहां वह प्रत्याशियों की जीत-हार तय करते हैं। 

डेरे ने अपना समर्थन किसी और दल को दिला, लेकिन इसके बावजूद आम आदमी पार्टी ने मालवा में शानदार प्रदर्शन किया। राजनीतिक पंडितों का मानना है कि डेरे का दावा गलत साबित हुआ है। अगर डेरा अनुयायियों ने एकतरफा वोटिंग की होती तो परिणाम कुछ और होता। सुनील जाखड़ ने डेरों के इन्हीं दावों पर तंज कसा है। जाखड़ ने कहा कि डेरे अनुयायियों की वोट बेचने के नाम पर दुकानें चला रहे हैं। स्वस्थ लोकतंत्र के लिए यह ठीक नहीं। इस चुनाव में डेरे पूरी तरह से एक्सपोज हो गए हैं।