Latest news
MCD में फिर बजेगा AAP का डंगा, दिल्ली की जनता ने माना AAP कट्टर ईमानदार पार्टी- मनीष सिसोदिया Kulhad Pizza का नया विवाद शुरु, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो खूब हो रहा ट्रौल जालंधर-फगवाड़ा गेट की हांगकांग मार्किट को सील करने की तैयारी, कांग्रेसी राज में किसने वसूले थे 28 ला... अटारी बाजार बोर्ड वाला चौंक के पास फिर शुरु हुआ 35 अवैध दुकानों का निर्माण, "पुरानी फाईल गायब, सिस्ट... जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड

यूक्रेन में बने युद्ध के हालात, कई देशों ने अपने नागरिकों को वापस बुलाया, कई देशों के दूतावास बंद



रोज़ाना पोस्ट 




यूक्रेन संकट (Ukraine Crisis) धीरे-धीरे काफी गहराता जा रहा है. इसका असर दुनिया के कई देशों पर पड़ रहा है. रूस की ओर से यूक्रेन पर आक्रमण करने के डर से अब कई देश अपने नागरिकों को यूक्रेन से जाने की अपील कर रहे हैं.  इसके साथ ही कई देश अपने डिप्लोमैटिक स्टाफ  को भी वहां से वापस बुला रहे हैं. वहीं, कुछ देश अपने नागरिकों  के लिए यूक्रेन की यात्रा न करने की सलाह दे रहे हैं.

Ukraine crisis: Imminent incursion by Russia 'entirely possible' - as  defence sec says complacency from some has 'whiff of Munich' | World News |  Sky News

अमेरिका को डर है कि रूस जल्द ही यूक्रेन पर आक्रमण कर सकता है. अभी हाल ही में अमेरिका ने ये आशंका जताई थी कि बीजिंग ओलंपिक खत्म होने से पहले ही रूस यूक्रेन पर हमला बोल सकता है. अमेरिका पहले ही अपने नागरिकों को यूक्रेन छोड़ने का आग्रह कर चुका है.

Missiles will hit Ukraine minutes after Putin's order, warns Britain |  World News – India TV

अमेरिका के अलावा कई और देशों की सरकारें अपने नागरिकों से यूक्रेन छोड़ने की अपील कर रही है. जिन देशों ने अपने नागरिकों को यूक्रेन छोड़ने का आह्वान किया है, उनमें जर्मनी (Germany), इटली, ब्रिटेन (Britain), आयरलैंड, बेल्जियम, लक्जमबर्ग, नीदरलैंड, कनाडा, नॉर्वे, एस्टोनिया, लिथुआनिया, बुल्गारिया, स्लोवेनिया, ऑस्ट्रेलिया, जापान, इजराइल शामिल हैं. इसके साथ ही सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात ने भी अपने नागरिकों को यूक्रेन से बाहर निकलने का आग्रह किया है.

फ्रांस ने अपने नागरिकों से यूक्रेन छोड़ने के लिए तो नहीं कहा है, लेकिन उत्तरी और पूर्वी यूक्रेन के सीमावर्ती क्षेत्रों की यात्रा न करने की सलाह दी है. इसके साथ ही रोमानिया, जो यूक्रेन की सीमा के पास है ने अपने नागरिकों को देश की यात्रा से बचने को कहा है. साथ ही अपने नागरिकों को वहां रहने की जरूरत पर गंभीरता से विचार करने की बात कही है.

यूक्रेन संकट को लेकर कई देशों ने दूतावास किए बंद
रूस ने अपने कुछ राजनयिक कर्मचारियों को वापस बुलाते हुए कहा है कि उसे ‘उकसावे’ का डर है. अमेरिका ने कीव (Kyiv) में अपने अधिकांश राजनयिक कर्मचारियों को प्रस्थान करने का आदेश दिया है. अमेरिका का मानना है कि रूस किसी भी वक्त यूक्रेन पर हमला कर सकता है. यूक्रेन संकट को देखते हुए कनाडा अस्थायी रूप से कीव में अपने दूतावास (Embassy) को बंद कर रहा है.