Latest news
जालन्धर विनय मंदिर के पंडित के खिलाफ ब्लात्कार का मामला दर्ज, गिरफ्तार पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान

नेपोटिज्म को लेकर उर्मिला मातोंडकर का बड़ा बयान, कहा- ‘मैंने उस समय इसके बारे में बात नहीं की’

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में नेपोटिज्म (भाई-भतीजावाद) का मुद्दा हमेशा से चर्चा में रहा है। कई कलाकारों को इसका शिकार भी होना पड़ा। अक्सर सितारे अपने साथ हुए नेपोटिज्म के दर्द को बयां भी करते रहे हैं। अब बॉलीवुड की काफी पुरानी और बड़ी अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर ने भी नेपोटिज्म को लेकर बड़ा बयान दिया है, जिसकी काफी चर्चा हो रही है।

बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर- तस्वीर : Instagram: urmilamatondkarofficial

उर्मिला मातोंडकर फिलहाल बड़े पर्दे से दूर हैं। वह इन दिनों राजनीति में सक्रिय हैं। उर्मिला मातोंडकर ने अपने करियर में कई शानदार फिल्में की हैं और बड़े कलाकारों के साथ काम भी किया है। एक समय ऐसा था जब उर्मिला मातोंडकर को नेपोटिज्म का सामना करना पड़ा। उन्होंने हाल ही में अंग्रेजी वेबसाइट टाइम्स ऑफ इंडिया को इंटरव्यू दिया है। अपने इस इंटरव्यू में उर्मिला मातोंडकर ने करियर और निजी जिंदगी को लेकर ढेर सारी बातें कीं।

उर्मिला मातोंडकर ने इस दौरान खुलासा किया है कि उन्हें नेपोटिज्म का सामना करना पड़ा था। हालांकि उन्होंने इसको लेकर उस समय बात नहीं की थी। दिग्गज अभिनेत्री ने कहा, ‘मुझे नेपोटिज्म का सामना करना पड़ा, हालांकि मैंने उस समय इसके बारे में बात नहीं की थी। मुझे ‘खट्टे अंगूर’ के तौर पर देखा जाता था, या फिर ‘नच न जाने आंगन टेड़ा।’ चाहे राजनीति हो, फिल्म हो या कोई अन्य इंडस्ट्री, नेपोटिज्म उतना ही है जितना कि सूरज, चांद और सितारे। यह फिल्म इंडस्ट्री में साफ तौर पर है क्योंकि यह लोगों की नजरों में है।’