Latest news
MCD में फिर बजेगा AAP का डंगा, दिल्ली की जनता ने माना AAP कट्टर ईमानदार पार्टी- मनीष सिसोदिया Kulhad Pizza का नया विवाद शुरु, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो खूब हो रहा ट्रौल जालंधर-फगवाड़ा गेट की हांगकांग मार्किट को सील करने की तैयारी, कांग्रेसी राज में किसने वसूले थे 28 ला... अटारी बाजार बोर्ड वाला चौंक के पास फिर शुरु हुआ 35 अवैध दुकानों का निर्माण, "पुरानी फाईल गायब, सिस्ट... जालन्धर तहसील में हुए विवाद में आरोपी पवन कुमार को मिली अदालत से राहत, जांच में शामिल पंजाब- शिक्षा के मंदिर में बच्चों के परिजनों ने की कर्लक की जमकर धुलाई, सीसीटीवी वायरल जालन्धर- AAP की सरकार में "बेरोजगार" हुए तकनीकि बिल्डिंग इंस्पैक्टर, 10 दिनों बाद भी नहीं सौंपा गया ... निगम के लिए एक ओर बड़ी मुसीबत-फोल्ड़ीवाल ट्रीटमैंट प्लांट के बाहर तंबू लगाकर शुरु हुआ प्रर्दशन,कूड़े... पूर्व कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की जमानत याचिका पर आया यह फैसला, विजीलैंस ने कोर्ट के समक्ष रख... आम आदमी पार्टी के विधायक की सिफारिश पर लगी महिला SHO भ्रष्टाचार के केस में सस्पेंड

नेपोटिज्म को लेकर उर्मिला मातोंडकर का बड़ा बयान, कहा- ‘मैंने उस समय इसके बारे में बात नहीं की’



बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में नेपोटिज्म (भाई-भतीजावाद) का मुद्दा हमेशा से चर्चा में रहा है। कई कलाकारों को इसका शिकार भी होना पड़ा। अक्सर सितारे अपने साथ हुए नेपोटिज्म के दर्द को बयां भी करते रहे हैं। अब बॉलीवुड की काफी पुरानी और बड़ी अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर ने भी नेपोटिज्म को लेकर बड़ा बयान दिया है, जिसकी काफी चर्चा हो रही है।




बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर- तस्वीर : Instagram: urmilamatondkarofficial

उर्मिला मातोंडकर फिलहाल बड़े पर्दे से दूर हैं। वह इन दिनों राजनीति में सक्रिय हैं। उर्मिला मातोंडकर ने अपने करियर में कई शानदार फिल्में की हैं और बड़े कलाकारों के साथ काम भी किया है। एक समय ऐसा था जब उर्मिला मातोंडकर को नेपोटिज्म का सामना करना पड़ा। उन्होंने हाल ही में अंग्रेजी वेबसाइट टाइम्स ऑफ इंडिया को इंटरव्यू दिया है। अपने इस इंटरव्यू में उर्मिला मातोंडकर ने करियर और निजी जिंदगी को लेकर ढेर सारी बातें कीं।

उर्मिला मातोंडकर ने इस दौरान खुलासा किया है कि उन्हें नेपोटिज्म का सामना करना पड़ा था। हालांकि उन्होंने इसको लेकर उस समय बात नहीं की थी। दिग्गज अभिनेत्री ने कहा, ‘मुझे नेपोटिज्म का सामना करना पड़ा, हालांकि मैंने उस समय इसके बारे में बात नहीं की थी। मुझे ‘खट्टे अंगूर’ के तौर पर देखा जाता था, या फिर ‘नच न जाने आंगन टेड़ा।’ चाहे राजनीति हो, फिल्म हो या कोई अन्य इंडस्ट्री, नेपोटिज्म उतना ही है जितना कि सूरज, चांद और सितारे। यह फिल्म इंडस्ट्री में साफ तौर पर है क्योंकि यह लोगों की नजरों में है।’