Latest news
जालन्धर-मंडी फैंटनगंज में बनी दो बड़ी नाजायज इमारतों के खिलाफ कारवाई न करने वाले 7 अधिकारियों के खिल... जाल्नधर - Charcoal Restaurant में खाना खाकर बच्चों समेत तीन महिलाएं मौके पर हुई बेहोश,अस्पताल में भर... जालन्धरः डीसीपी नरेश डोगरा पर दिन चढ़ते ही गिरी एक ओर गाज, पढे पूरा मामला जालन्धरः दुकानदारों के मामूली विवाद ने लिया भयानक रुप,डीसीपी नरेश डोगरा के खिलाफ ही दर्ज हुई FIR, पढ... नशे में धुत व्यक्ति ने घर में घुसकर की मारपीट और तोड़फोड़, पुलिस के साथ भी झगड़ा पंजाब में सियासत गर्माई- ओप्रेशन लोटस के विवाद पर पंजाब में भाजपा पर केस दर्ज, विजीलैंस को सौंपी जां... चार साल बाद री-सील हुआ विरासत हवेली रैस्टोंरैंट (एम्पायर हेरीटेज) के पीछे क्या है राज, पढ़े क्यो चार... Plaza Hotel में बन रही Multistorey Market के मामले में निगम प्रशासन के खिलाफ अदालत में केस दायर करेग... प्रताप बाग के नजदीक एक दुकान के नक्शे पर बनी तीन सैनिटरी की दुकानें, चौथी की तैयारी पंजाब : SHO से परेशान ASI मुंशी ने थाने में खुद को मारी गोली, मौत

जालन्धर : वार्डबंदी का काम अभी भी अधूरा, निगम चुनाव दिसंबर तक टले, आप को कमजोर कर रही अफसराशाही!

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

जालन्धर अनिल वर्मा

जालन्धर में बीते पांच साल पहले भारी बहुमत के साथ सत्ता में आई कांग्रेस पार्टी का नगर निगम में अभी परचम लहरा रहा है तथा अफसरशाही भी इस बार आम आदमी पार्टी को निगम चुनावों में कमजोर बनाने के लिए वार्डबंदी के काम को लटका रही है। जिसके चलते इस बार नगर निगम के चुनाव दिसंबर तक टल गए हैं। इस वार्डबंदी में जिस तरह कांग्रेस पार्टी ने बखूबी ग्रांऊडवर्क करके अपने चहेतों को जिताने के लिए वार्डबंदी करवाई थी उसके तर्ज पर आम आदमी पार्टी के विधायक सियासी तर्जुबे की मार झेल रहे हैं यही कारण है कि इस बार निगम में आम आदमी पार्टी का जीतना लगभग मुश्किल नजर आ रहा है। इसकी दूसरी बड़ी वजह यह भी है कि जालन्धर से आम आदमी पार्टी के जीते दोनों विधायकों ने नगर निगम की ओर खास ध्यान केन्द्रित नहीं किया और जनसमस्यों को नजरअंदाज किया।

फिलहाल वार्डबंदी का काम अभी जनसंख्या सर्वे तक ही सीमित है। इस बार जालन्धर कैंट हल्के से नए शामिल हुए इलाकों को भी वार्ड नंबर मिलेगा लिहाजा इस बार 80 वार्डों की जगह 90 वार्ड होने की संभावना है। सियासी कल्चर अनुसार वार्डों में एक्टिव पार्टी के वर्करों को पार्षद बनाने के लिए वार्डबंदी की जाती है तांकि उस वार्ड में वोटर ज्यादा से ज्यादा पार्टी को वोट डालें। मगर इस बार पहली बार पंजाब की सत्ता में आई आम आदमी पार्टी के वर्कर अभी तक ग्राऊंड में नहीं उतरे और न ही जन समस्यों की आवाज उठा रहे हैं लिहाजा तजुर्बेहीन तथा नए उम्मीदवार का वोटर बायकाट कर सकते हैं। जिससे नगर निगम पर परचम लहराना आम आदमी पार्टी के लिए विकट समस्या बना हुआ है।