Latest news
जालन्धर-मंडी फैंटनगंज में बनी दो बड़ी नाजायज इमारतों के खिलाफ कारवाई न करने वाले 7 अधिकारियों के खिल... जाल्नधर - Charcoal Restaurant में खाना खाकर बच्चों समेत तीन महिलाएं मौके पर हुई बेहोश,अस्पताल में भर... जालन्धरः डीसीपी नरेश डोगरा पर दिन चढ़ते ही गिरी एक ओर गाज, पढे पूरा मामला जालन्धरः दुकानदारों के मामूली विवाद ने लिया भयानक रुप,डीसीपी नरेश डोगरा के खिलाफ ही दर्ज हुई FIR, पढ... नशे में धुत व्यक्ति ने घर में घुसकर की मारपीट और तोड़फोड़, पुलिस के साथ भी झगड़ा पंजाब में सियासत गर्माई- ओप्रेशन लोटस के विवाद पर पंजाब में भाजपा पर केस दर्ज, विजीलैंस को सौंपी जां... चार साल बाद री-सील हुआ विरासत हवेली रैस्टोंरैंट (एम्पायर हेरीटेज) के पीछे क्या है राज, पढ़े क्यो चार... Plaza Hotel में बन रही Multistorey Market के मामले में निगम प्रशासन के खिलाफ अदालत में केस दायर करेग... प्रताप बाग के नजदीक एक दुकान के नक्शे पर बनी तीन सैनिटरी की दुकानें, चौथी की तैयारी पंजाब : SHO से परेशान ASI मुंशी ने थाने में खुद को मारी गोली, मौत

चार साल बाद री-सील हुआ विरासत हवेली रैस्टोंरैंट (एम्पायर हेरीटेज) के पीछे क्या है राज, पढ़े क्यो चार साल क्यों फाईल दबा कर रखी गई

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

जालन्धर अनिल वर्मा

मास्टर तारा सिंह नगर में स्थित विरासत हवेली रैस्टोंरैंट (एम्पायर हेरीटेज) को आज निगम के बिल्डिंग विभाग ने चार साल बाद री-सील कर दिया। यह रैस्टोरैंट रिहायसी नक्शा पास करवा कर चलाया जा रहा था जिसके चलते निगम ने इसे चार साल पहले सील किया था मगर उसी दिन इस रैस्टोरैंट में फैमिली फंक्शन बुक होने के चलते इस रैस्टोरैंट को सियासी दबाव तले डी-सील कर दिया गया था मगर इसके बाद विभाग ने कोई पैरवी नहीं की और न ही चार साल दौरान कोई नोटिस ही जारी किया।

अब इस मामले में चंडीगढ़ तक दोबारा शिकायत पहुंची तो निगम कमिशनर दविंदर सिंह ने मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए विरासत हवेली रैस्टोरेंट जहां अब अम्पायर हैरीटेज नामक रैस्टोरैंट चलाया जा रहा था यह रैस्टोरैंट अकाली नेता इकबाल सिंह ढींढसा का है तथा इस रैस्टोरैंट को 2013-17 तक रही अकाली भाजपा सरकार के कार्यकाल दौरान रिहायशी नक्शा पास करवा कर बनवाया गया था मगर सरकार का दबदबा होने के कारण यहां विरासत हवेली रैस्टोंरैंट  खोल दिया गया इस मामला का तब काफी विरोध हुआ था मगर बिल्डिंग विभाग के अफसरों ने इस मामले में कोई रिर्पोट उच्चाधिकारयों को पेश नहीं की जिसकी वजह से कारवाई नहीं हुई। शिकायतकर्ता ने यह मामला लोकपाल में दायर किया जिसके बाद बिल्डिंग विभाग ने रिकार्ड पेश किया जिसमें खुलासा हुआ कि यह रिहायशी नक्शे के आधार पर रैस्टोरेंट चलाया जा रहा था।

2017 के बाद सत्ता में कांग्रेस की सरकार रहने के दौरान भी इस रैस्टोरैंट पर कांग्रेसियों की मेहरबानी बनी रही सूत्रों अनुसार इस रैस्टोरैंट को सियासी शैल्टर देने के लिए 2 कांग्रेसी नेताओं को साईलैंट पार्टनर बनाया गया था तांकि कोई कानूनी कारवाई न हो सके। अब एक बार फिर सत्ता पल्ट हो चुका है कांग्रेस का राज्य में सफाया हो चुका है और अब आम आदमी पार्टी के सत्ता में आने के बाद  निगम उन पुरानी फाईलों को डटोल रहा है जिस पर अकाली भाजपाई तथा कांग्रेसी मेहरबान रहे। इसकी पहली गाज मास्टर तारा सिंह नगर में गिरी और एम्पायर हैरीटेज को री-सील कर दिया गया। फिलहाल यह सील कब तक रहेगी यह कहना मुश्किल है क्योंकि इस मामले  में एक बार फिर एक सियासी लालच देकर किसी नेता को साईलैंट पार्टनर बनाया जा सकता है तांकि अगले 5 साल तक फिर इस मामले में शैल्टर हासिल किया जा सका।