Latest news
जालन्धर विनय मंदिर के पंडित के खिलाफ ब्लात्कार का मामला दर्ज, गिरफ्तार पंजाब पुलिस को खुली चुनौती- पीएपी हैडक्वार्टर की दीवारों पर लिखे खालिस्तानी नारे, मामला दर्ज पंजाब में अगले चार दिन लगातार भारी बारिश की चेतावनी,विभाग ने जारी किए निर्देश पंजाब - ड्रग इंस्पेक्टर बबलीन कौर को पुलिस ने किया गिरफ्तार , मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन प... जालंधर - शरारती तत्वों ने लम्बा पिंड सड़क पर खड़ी आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़े, शिकायत दर्ज जालंधर मकसूदां सब्ज़ी मंडी में गैस स्लेंडर फटा, 1 घायल लख लाहनत- सीमा आर्ट ने 8वीं बार किया निगम की बेसमैंट पर कब्जा, वर्कशाप चालू डेविएट में खूनी टकराव - एक छात्र की मौके पर मौत, दो श्रीमन अस्पताल दाखिल जालंधर अर्बन एस्टेट में चल रहे स्पार्कल स्पा सेंटर में CIA की रेड, 2 जोड़े आपत्तिजनक हालत में काबू संगरूर लोकसभा चुनाव में वोटरों का नहीं नजर आ रहा उत्साह, अब तक सिर्फ इतने प्रतिशत हुआ मतदान

जालंधरः विज्ञापन शाखा के किस अधिकारी ने लगवाया माडल टाऊन मेें शहर का सबसे बड़ा अवैध विज्ञापन ? पढ़े और देखे

innocent-jan-2022-strip
innocent-jan-2022-strip

अनिल वर्मा

जालन्धर के माडल टाऊन में शहर का सबसे बड़ा अवैध विज्ञापन लगाया गया है जोकि नगर निगम की विज्ञापन शाखा के अधिकारियों के अलावा पूरे शहर को नजर आ रहा है। यह  विज्ञापन कैपसन के शौरूम के सामने एक बडी बिल्डिंग के बाहर लगाया गया है । यह विज्ञापन इस बिल्डंग में खुलने जा रहे एक सैलून की प्रमोशन करने के लिए लगाया गया है। बता दें कि विज्ञापन बाईलाज 2018 अनुसार इस तरह के बड़े विज्ञापन लगाने की परमिशन नहीं दी जा सकती मगर ऐसे विज्ञापन लगाने के लिए अफसरों के साथ सांठगांठ करने की जरूरत होती है शायद इस प्रमोशन बोर्ड को लगाने के लिए भी की गई लगती है। आसपास के दुकानदारों ने बताया कि यह प्रमोशन बोर्ड पिछले एक हफ्ते से लगा है। यहां कई बार विज्ञापन शाखा के अधिकारी भी गुजरते हैं मगर इस बोर्ड को उतारने की जहमत नहीं करते।

बता दें कि इस शहर में इस तरह के एक नहीं बल्कि सैंकड़ों ही अवैध प्रमोशन बोर्ड लगे हुए हैं मगर विज्ञापन शाखा के इंस्पैक्टर और फील्ड स्टाफ हररोज कमिशनर की आंखों में धूल झौंक कर ड्यूटी निभा रहे हैं। इसी तरह के कई बड़े बोर्ड स्काईलार्क चौंक एलआईसी की बिल्डिंग और वर्कशाप चौंक में भी लगाए गए हैं  जिसका एक महीने का आमूमन किराया  एक लाख से डेढ़ लाख रुपये है मगर यह पैसा नगर निगम के खाते में जा रहा है और  ही यहां से अवैध बोर्ड हटाए जा रहे हैं इसके पीछे विज्ञापन शाखा के अधिकारियों की क्या मंशा है साफ नजर आ रही है। इस मामले में एक शिकायतकर्ता द्वारा विज्ञापन शाखा के अधिकारियों के खिलाफ पीजीआरएस पोर्टल पर शिकायत दर्ज करवाई गई है